कायर पुरुष कभी विजय नहीं पा सकता | स्वामी विवेकानन्दजी

स्वामी विवेकानन्दजी अपने जीवन का एक घटना सुनाते हुए कहते हैं- एक बार में काशी में किसी जगह जा रहा था। उसी जगह एक तरफ काफ़ी जलाशय और दूसरी ओर…

शिष्टाचार | स्वामीजी बोलने के लिए खड़े हुए और उन्होंने ‘अमरीकावासी बहिनों और भाइयों’ शब्दों के साथ जनता क

सन् 1893 में शिकागो में विश्वधर्म सम्मेलन चल रहा था। स्वामी विवेकानन्द भी उसमें बोलने के लिए गये हुए थे। 11 सितम्बर को स्वीमीजी का व्याख्यान होना था। मंच पर…

स्वामी विवेकानंद जी का सम्पूर्ण जीवन परिचय

स्वामी विवेकानन्द का वास्तविक नाम नरेन्द्र नाथ दत्त था। इनका जन्म 12 जनवरी सन् 1863 ई० पौष संक्रान्ति के दिन कलकत्ता (अब कोलकता) के एक सभ्य एवं सम्पन्न क्षत्रिय परिवार…

उपदेश | मूर्तिपूजा

मूर्तिपूजा एक बार महाराज ने स्वामी विवेकानन्दजी से प्रश्न किया-“देखिये, स्वामीजी ! मूर्तिपूजा में मेरा रत्ती भर भी विश्वास नहीं है। इसके लिए मुझे क्या दण्ड मिलेगा ?” स्वामीजी ने…